Badal Ko Ghirte Dekha Hai Poem Question Answer

Badal Ko Ghirte Dekha Hai Class 11 Hindi Antra Question Answer

बादल को घिरते देखा है प्रश्न अभ्यास – नागार्जुन (अंतरा भाग 1 पाठ 17)

बादल को घिरते देखा है प्रश्न 1. इस कविता में बादलों के सौंदर्य चित्रण के अतिरिक्त और किन दृश्यों का चित्रण किया गया है?
Badal Ko Ghirte Dekha Hai उत्तर- इस कविता में कवि ने बादलों के सौंदर्य का चित्रण तो किया ही है, साथ ही साथ हिमालय पर्वत का भी वर्णन बहुत ही खूबसूरती से किया है। कवि के अनुसार, हिमालय पर्वत पर सफेद बर्फ की चादर ढकने से वह सुंदर दिखता है। साथ ही, वहां पर हंसों के तैरने का वर्णन भी किया गया है।

जब सुबह होती है, तो सूर्य अपने प्रकाश से संपूर्ण पृथ्वी को उज्जवलित करता है, अपना प्रकाश बिखेरता है। इस दृश्य का भी वर्णन बड़ी सुंदरता से किया गया है। दूसरी ओर, कवि ने चकवा एवं चकोर पक्षी का वर्णन किया है, जो अपने अभिशाप के कारण रात में एक-दूसरे के साथ नहीं रहते हैं और रात खत्म होने के बाद ही सुबह मिलते हैं। वे दोनों इस तरीके से प्रेमालाप करते हैं, मानों एक रात नहीं, बल्कि कई वर्षों बाद मिल रहे हों।

प्राकृतिक सौंदर्य का वर्णन करने के साथ-साथ वे हिमालय पर्वत में रहने वाले किन्नरों का भी वर्णन करते हैं कि वे किस तरीके से अपने जीवन में मस्त रहते हैं एवं खुशी-खुशी अपना जीवन व्यतीत करते हैं। कवि ने कविता में युवा मृग का भी वर्णन किया है, जो बहुत ही सुगंधित होता है। अपनी सुगंध से अनजान होने के कारण वह संपूर्ण हिमालय पर्वत पर इधर-उधर भटकता है। जब उसे वह सुगंध नहीं मिलती, तो वह चिढ़ जाता है।


बादल को घिरते देखा है प्रश्न 2. प्रणय-कलह से कवि का क्या तात्पर्य है?
Badal Ko Ghirte Dekha Haiउत्तर- प्रणय- कलह का अर्थ हैदो प्रेमियों के मध्य प्यार वाली ‌लड़ाई। कवि ने हिमालय की चोटियों में चकवा एवं चकवी की जोड़ी को देखा था। जो एक अभिशाप के कारण रातभर साथ नहीं रह सकते थे एवं सुबह के वक्त ही एक-दूसरे से मिल सकते थे, प्रेमालाप कर सकते थे। वे अपनी इस दूरी को बर्दाश्त नहीं कर पाते। इसलिए, वे रात्रि के बाद जब भी सुबह मिलते हैं, तो पहले लड़ाई करते हैं, फिर प्रेमालाप करते हैं।

बादल को घिरते देखा है प्रश्न 3. कस्तूरी मृग के अपने पर ही चिढ़ने के क्या कारण हैं?
Badal Ko Ghirte Dekha Hai उत्तर- कहा जाता है कि कस्तूरी मृग के शरीर से एक बहुत ही सुंदर खुशबू आती है। मगर यह मृग अपनी ही खुशबू से अनजान होता है और वह उस खुशबू को ढूंढने के लिए हिमालय में इधर से उधर विचलित होता दिखता है। अंत में जब वह उस सुगंध की तलाश नहीं कर पाता, तो उसे अपने आप पर गुस्सा आता है और वह चिढ़ जाता है।

बादल को घिरते देखा है प्रश्न 4. बादलों का वर्णन करते हुए कवि को कालिदास की याद क्यों आती है?
Badal Ko Ghirte Dekha Hai उत्तर- मेघदूत कविता कालिदास की सबसे बड़ी कविता है और यह कविता संपूर्ण विश्व में बहुत ही ज्यादा प्रचलित है। इसलिए कवि जैसे बादलों का वर्णन करते हैं, तो उनको कालिदास की याद आती है कि कालिदास ने अपनी कविता में आकाश गंगा का वर्णन किया था। कवि हिमालय पर्वत के उस कोने में इस आकाश गंगा नदी को ढूंढने का प्रयास भी करते हैं। मगर उनको आकाश गंगा नदी के बारे में कुछ भी पता नहीं चलता है और वह उस तलाश में असफल हो जाते हैं।

Tags:
Badal Ko Ghirte Dekha Hai Solution

Leave a Comment