Sab Aankho Ke Aansu Ujle Class 11 Hindi Antra Question Answer

सब आँखों के आँसू उजले कविता प्रश्न उत्तर- महादेवी वर्मा (अंतरा भाग 1 पाठ 15)

प्रश्न 6- महादेवी वर्मा ने ‘आंसू’ के लिए ‘उजले’ विशेषण का प्रयोग किस संदर्भ में किया है और क्यों?
उत्तर- आंखों से आंसू बहना एक प्राकृतिक प्रक्रिया है। आंसू जब आंखों से बहता है, तो उसमें कोई छल-कपट नहीं रहता है। मनुष्य जब खुश होता है, तब वह रोता है। जब वह दुखी होता है, तब वह रोता है। या फिर, जब वह भाव में बहता है, तब भी रोता है। भाव किसी भी प्रकार का हो सकता है, सुख या दुख दोनों हो सकता है। यह भाव बिल्कुल स्पष्ट होता है। ठीक उसी प्रकार, जिस तरीके से सफेद रंग होता है, जिसमें कोई भी रंग घोल देने पर सफेद रंग एक नए रूप में परिवर्तित हो जाता है।

प्रश्न 7- सपनों को सत्य रूप में ढालने के लिए कवयित्री में किन यथार्थपूर्ण स्थितियों का सामना करने को कहा है?
उत्तर- एक मनुष्य को अपने समस्त सपनों को पूरा करने के लिए, एक लक्ष्य निर्धारित करना चाहिए। बिना लक्ष्य निर्धारित किए, कोई भी व्यक्ति अपने जीवन में सफल नहीं हो सकता। 

उस लक्ष्य को हासिल करने के लिए मनुष्य को अपने अंदर मौजूद समस्त गुणों को बाहर लाना होगा और उन गुणों को किसी भी व्यक्ति के वजह से किसी भी परिस्थिति के कारण खत्म नहीं होने देना होगा। तभी वह व्यक्ति अपने सपने को साकार कर सकता है और अपनी मंजिल तक जा सकता है।

प्रश्न 8- निम्नलिखित पंक्तियों का भाव स्पष्ट कीजिए

आलोक लुटाता वह…… कब फूल जला
उत्तर- काव्य पंक्तियों के माध्यम से महादेवी वर्मा जी दीपक एवं फूल दोनों का वर्णन करती हैं। वे कहती हैं कि जिस तरीके से दीपक समस्त अंधकार को मिटाने में सक्षम होता है, उसी प्रकार फूल अपनी सुगंध से संपूर्ण वातावरण को सुगंधित करता है।

ये दोनों अपना-अपना गुण एक-दूसरे के लिए कभी भी मिटाते नहीं हैं। ये दोनों ही संसार के पथ-प्रदर्शक हैं। दीपक से हमें इस जग को उजाला देने की सीख मिलती है और फूल से अपनी अच्छाई के माध्यम से समाज को कुछ देने का मन करता है। अर्थात्, एक व्यक्ति को इस फूल एवं दीपक की तरह बनना चाहिए और उनसे सीख लेना चाहिए।

नभ तारक सा…. हीरक पिघला?
उत्तर- स्वर्ण धातु एवं हीरों के माध्यम से यह बताने का प्रयास किया है कि सभी की प्रकृति अलग-अलग होती है। इन दोनों के माध्यम से कवयित्री ने यह बताने का प्रयास किया है कि जिस तरीके से हीरा अपनी चमक नहीं बदलता, सोना अपना मोल नहीं बदलता, ठीक उसी प्रकार से मानव को अपना आचार एवं व्यवहार कभी नहीं बदलना चाहिए।

कहने का तात्पर्य यह है कि मनुष्य को अपने अंदर मौजूद किसी भी गुण को, लोगों के कारण नहीं बदलना चाहिए। एक मनुष्य जैसा गुण लेकर इस सृष्टि में आया है, अपने उस गुण को हमेशा यह कोशिश करनी चाहिए कि वह गुण हमेशा बढ़ता रहे, उसकी गुणवत्ता में कभी भी कोई कमी ना आए।

सोने को भी चमकने के लिए आग में तपना पड़ता है, उसी प्रकार मनुष्य को भी अपने जीवन में आगे बढ़ने के लिए हर तरीके की चुनौतियों का सामना करना चाहिए। उन चुनौतियों से पीछे हटकर चुपचाप एक कोने में नहीं बैठना चाहिए। अर्थात्, आपके जीवन में कितनी भी कठिनाइयां आएं, आप उन कठिनाइयों का डटकर सामना कीजिए और अपने अंदर के स्वभाव को किसी के लिए मत बदलिए।

Tags:
सब आँखों के आँसू उजले व्याख्या 
सब आँखों के आँसू उजले भावार्थ 
सब आँखों के आँसू उजले कविता का अर्थ 
सब आँखों के आँसू उजले Summary 
Sab Aankho Ke Aansu Ujle vyakhya
Sab Aankho Ke Aansu Ujle Summary