free live ipl match

गीत गाने दो मुझे प्रश्न अभ्यास

गीत गाने दो मुझे प्रश्न 1- कंठ रुकता रहा है, काल आ रहा है – यह भावना कवि के मन में क्यों आई? 

उत्तर- कवि कहता है कि यह जो जीवन है, इसमें सिर्फ परेशानियाँ ही परेशानियाँ है। हांलाकि कवि ने अपने जिंदगी में काफी संघर्ष किया। परन्तु वह इन परेशानियों से लड़ नहीं पा रहा है। 

वह देख रहा है, संसार में सब स्वार्थी हो गए हैं। हर तरफ उसे निराशा नजर आ रही है। अब संघर्ष करते करते कवि की हिम्मत टूट गई है। उसके मन में निराशा की भावना उत्पन्न हो रही है। कवि को ऐसा लगता है, जैसे उसके मुंह से आवाज़ नहीं आ रही है, लगता है अंत नज़दीक हैं।

गीत गाने दो मुझे प्रश्न 2- ठग – ठाकुरों से कवि का संकेत किन की ओर है?

उत्तर- ठग- ठाकुरों से कवि का संकेत पूँजीपतियों तथा प्रशासक वर्ग की ओर है क्योंकि ये आम लोगो के ऊपर शोषण करते हैं। उन्हें दबाए रखना चाहते हैं। और निम्न वर्ग हमेशा शोषित होता रहता है, ताकि इन लोगो को लाभ मिलता रहे और वह अपना प्रभुत्व भी कायम रखना चाहते हैं।

गीत गाने दो मुझे प्रश्न 3- जल उठी फिर सीचने को – इन पंक्तियों का भाव स्पष्ट कीजिए ।

उत्तर- कवि कहता है कि ऐसा लगता है, जैसे धरती की लौ यानी भाईचारे करुणा जैसे गुण मिट गए है वह लोगो से निवेदन करता है कि अब संघर्ष करने का समय आ गया है।

अब वह उठे और संसार के शोषण, स्वार्थ और निराशा को दूर करने के लिए लड़े जिससे संसार में प्रेम की भुजी लो दोबारा जल उठे और निराशा आशा में बदल जाएं और लोगो के बीच भाईचारे की भावना जल उठे।

गीत गाने दो मुझे प्रश्न 4- प्रस्तुत कविता दुख या निराशा से लड़ने की शक्ति देता है – स्पष्ट कीजिए।

उत्तर- प्रस्तुत कविता हमे दुख या निराशा से लड़ने की शक्ति देता है। जिस तरह कवि का जीवन कष्टों भरा रहा है और वह संघर्ष करता रहा है। उसने पूँजीपतियों के प्रति हमेशा अपना आक्रोश व्यक्त किया है। पर अब ऐसा प्रतीत होता है, मानो वह निराश हो रहा है। ऐसा लगता है मानो लोगो में जीने की इच्छा भी ख़तम हो रही है।

कवि इसी लॉ को जलाने की बात कर रहा है। अपने गीत के द्वारा कवि मनुष्य को संघर्ष करने की प्रेरणा देता है। जिससे उनके अंदर का उत्साह फिर से जागृत हो जाए। 

मानवता के जीवन को स्थापित करने के लिए, प्रेम भाईचारे की भावना को स्थापित करने के लिए एकजुट हो और संघर्ष करने की ठान ले जिससे धरती पर मानवता फिर से व्याप्त हो जाएं और निराशा का वातावरण दूर हो।