ग़ज़ल दुष्यंत कुमार- प्रश्न- अभ्यास- GAZAL- DUSYANT KUMAR QUESTIONS AND ANSWERS

Class 11 Hindi Gazal Question 1: आखिरी शेर में गुलमोहर की चर्चा हुई है। क्या उसका आशय एक खास तरह के फूलदार वृक्ष से है या उसमें कोई सांकेतिक अर्थ निहित है? समझाकर लिखें।

उत्तर- गज़ल के आखिर में गुलमोहर की चर्चा हुई है। यह बिल्कुल सत्य है कि गुलमोहर एक खास तरह का फूल देने वाला पेड़ है। गुलमोहर के पेड़ के नीचे बैठकर लोगों को एक बहुत ही अच्छा एहसास प्राप्त होता है। यह एहसास खुशी का होता है।

कवि के अनुसार यह पेड़ चैन सुकून देने वाला पेड़ है और इस पेड़ के लिए कभी कुछ भी समर्पण करने के लिए तैयार हैं। इसका अर्थ साफ एवं स्पष्ट है कि हमें किसी के ऊपर आश्रित नहीं रहना चाहिए। हमेशा अच्छा कार्य करना चाहिए। लोगों को तकलीफ नहीं देना चाहिए। ताकि हमारा अंत जब हो तब हमें भी शांति मिलेगी।

Class 11 Hindi Gazal Question 2: पहले शेर में चिराग शब्द एक बार बहुवचन में आया है और दूसरी बार एकवचन में। अर्थ एवं काव्य-सौंदर्य की दृष्टि से इसका क्या महत्व है?

उत्तर- बहुवचन के रूप में चिराग शब्द का अर्थ होता है घर की खुशियों से। वही एकवचन के रूप में चिराग शब्द का अर्थ होता है संपूर्ण शहर की खुशियों से।

प्रसिद्ध गज़ल के माध्यम से कवि ने वर्तमान समाज की स्थिति पर बहुत ही कर्तव्य किया है। जिस व्यवस्था में सभी लोग खुशी की उम्मीद करते हैं। वहीं एक पूरा समाज सुख के लिए तरसता रहता है।

Class 11 Hindi Gazal Question 3: गज़ल के तीसरे शेर को गौर से पढ़ें। यहां दुष्यंत का इशारा किस तरह के लोगों की ओर है?

उत्तर- गज़ल के तीसरे शेर के माध्यम से कवि ने मजबूर लोगों की ओर इशारा किया है, जो स्वयं को हर परिस्थितियों के अनुसार ढाल लेते हैं। यह गज़ल परेशानियों से समझौता करने वाले लोगों के लिए है।

यह गज़ल हमें बताता है कि किस तरह से मजबूर लोग अपने खिलाफ हो रहे अन्याय एवं अत्याचार को सह रहे हैं। भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ आवाज उठाने के बजाय वह चुपचाप शोषण के शिकार हो रहे हैं। अपनी परिस्थितियों से समझौता कर रहे हैं। 

Class 11 Hindi Gazal Question 4: आशय स्पष्ट करें:

तेरा निज़ाम है सिल दे ज़ुबान शायर की,
ये एहतियात ज़रूरी है इस बहर के लिए।

उत्तर- प्रस्तुत पंक्तियों के माध्यम से कवि दुष्यंत कुमार यह बताने का प्रयास करते हैं कि जब कोई शायर या कोई कवि सत्ता के ख़िलाफ़ अपनी आवाज़ को उठाता है, वह भी अपने लेख के माध्यम से। उस वक्त यही सत्ताधारी डर जाते हैं क्योंकि उन्हें क्रांति होने का एहसास हो जाता है। उन्हें डर सा हो जाता है कि उनका सिंहासन उनका राज अब खत्म हो जाएगा।

वह खुद को बचाने के लिए कवियों की ज़ुबान बंद करने की चेष्टा करते हैं अर्थात कवि के लेख पर रोक-टोक करते हैं।

Tags:
dushyant kumar ghazal class 11 question answer
dushyant kumar ghazal ke prashn uttar
gajal class 11 question answer
class 11 hindi gazal question answer
class 11 hindi chapter gazal question answer
दुष्यंत कुमार गजल कक्षा 11 प्रश्न अभ्यास