देवसेना का गीत | Devsena Ka Geet Question Answer Class 12

Devsena Ka Geet Class 12 Chapter 1 Hindi Antra Question Answer

देवसेना का गीत कविता क्लास 12 अंतरा पाठ 1 प्रश्न अभ्यास –  जयशंकर प्रसाद

देवसेना का गीत प्रश्न 1- “मैने भ्रमवश जीवन संचित, मधुकरियों की भीख लुटाई” – पंक्ति का भाव स्पष्ट कीजिए।

उत्तर- “मैने भ्रमवश जीवन संचित, मधुकरियों की भीख लुटाई” इस पंक्ति से कवि का आशय है कि जीवन में देवसेना ने यह सोचा था कि वह स्कंदगुप्त को पा लेगी।

लेकिन ऐसा नहीं हुआ उसने बस जीवन भर सिर्फ उनकी यादें जोड़ी है उनको पाने की लालसा में पूरा जीवन निकाल दिया पर अब उसने अपने आप को देश सेवा के लिए समर्पित कर दिया है अब उसके मन से प्रेम की भावना खत्म हो गई है।

देवसेना का गीत प्रश्न 2- कवि ने आशा को बावली क्यों कहा है?

उत्तर- कवि ने आशा को बावली इसलिए कहा है जब जीवन के अंतिम क्षण में स्कंदगुप्त देवसेना से आकर प्रेम का इज़हार करता है तब देवसेना सोचती है कि जीवन में जब उसे स्कंदगुप्त की जरूरत थी उस समय तो उसने स्कंदगुप्त ने निवेदन अस्वीकार कर दिया पर अब जब वो अपना जीवन देश प्रेम में लगा चुकी है। 


अब स्कंदगुप्त वापिस आ रहे है वह इस समय अपनी आशा को बावली कहकर उन्हें चुप करती है कि आशा तुम क्यों बावली हुई जा रही हो मैं अपना कर्तव्य नहीं छोड़ सकती अगर मैने ऐसा किया तो मेरा अब तक की त्याग और तपस्या भंग हो जाएगी उसका प्रण उसकी निष्ठा उसके लिए सबसे ऊपर है।

देवसेना का गीत प्रश्न 3- “मैने निज दुर्बल पद – बल पर,उससे हारी – होड़ लगाई” इन पंक्तियों में दुर्बल पद बल और ‘ हारी होड़ ‘ में निहित व्यंजना स्पष्ट कीजिए –

उत्तर- देवसेना को आजीवन विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ा जब उसके परिवार पर आक्रमण हुआ तो उसके भाई समेत पूरा परिवार वीर गाती को प्राप्त हुआ तब वह अकेली पड़ गई उसका कोई सहारा नहीं था तो उसके आगे मात्र एक ही रास्ता था कि वो देश सेवा को अपना ले क्यों कि स्कंदगुप्त भी उसे ठुकरा चुके थे।

इसलिए वह अपनी विपरीत परिस्थितियों के साथ जीने लगी और परिस्थितियों इतनी प्रबल थी को वह उनके आगे हार गई उसने परिस्थितियों से लड़ने की लिए जो होड़ लगाए यहां उसकी बात की गई है अर्थात परिस्थितियों से उसने मुकाबला किया लेकिन वो जीत नहीं पाई।

देवसेना का गीत प्रश्न 4- काव्य सौंदर्य स्पष्ट कीजिए

(क) श्रमित स्वप्न की मधुमाया में,
गहन – विपिन की तरु – छाया में,
पथिक उंनींदी श्रुति में किसने-
यह विहाग की तान उठाई।

भाव सौंदर्य- इन पंक्तियों का भाव ये है कि जिस प्रकार घने जंगल में पथिक थका हारा अए और पेड़ो की छाव में सो रहा हो और उस कोई तान सुना दे जाए तो वह उसे अच्छे नहीं लगेगी।

उसी प्रकार से देवसेना अपनी मिट्ठी यांदे और उसने जो सपने देखे थे स्कंदगुप्त को पाने के उनसे वह हार गई और अब वह देश सेवा के लिए समर्पित हो गई यहां वह अपने आप को पथिक के रूप में अभिव्यक्त करती है और कहती है कि अब उसे स्कन्द गुप्त का प्रेम निवेदन अच्छा नहीं लग रहा।

शिल्प सौंदर्य –
1. खड़ी बोली का प्रयोग किया गया है।
2. तत्सम प्रधान है।
3. संगीतत्मक्ता है।
4. मधुर गुण है।
5. व्योग श्रृंगार एवं करुण रस है।

(ख) लौटा लो यह अपनी थाती ,
मेरी करुणा हा – हा खाती।
विश्व ! न सँभलेगा यह मुझसे,
इससे मन की लाज गंवाई।

भाव सौंदर्य- इन पंक्तियों का भाव ये है कि देवसेना कहती है कि हे स्कंदगुप्त तुम अब अपनी वो धरोहर अर्थात वो मधुर कल्पनाएं मुझसे वापिस ले लो जो मेने तुम्हारे याद में संजोई थी तुम्हें पाने कि वह सब तुम मुझसे वापिस ले लो क्यों कि अब मेरा हृदय इनको और संभाल नहीं पा रहा है।
मेरी करुणा भी थक हार चुकी है और मैने अपने मन की लाज भी गवा दी हैं।

शिल्प सौंदर्य –
1. मानवीय करण किया गया है
2. करुण रस है
3. व्योग श्रृंगार है
4. लाज गवाना मुहावरे का प्रयोग है
5. तत्सम शब्द व खड़ी बोली का प्रयोग किया है।

देवसेना का गीत प्रश्न 5- देवसेना की हार या निराशा के क्या कारण हैं?

उत्तर- देवसेना महाराजा बंदू वर्मा की बहन है उसका सारा परिवार वीरगती को प्राप्त होता है अपने शादी के सपने को साकार करने के लिए वह स्कंदगुप्त के शरण में जाती है पर वो धन कुबेर की कन्या विजया से प्राप्त करता है और वह देवसेना के प्रेम को अस्वीकार कर देते है।

देवसेना का जीवन संकटों से भरा है किन्तु वह जीवन की विपरीत परिस्थितियों में जीती तो है उनसे होड़ भी लगाती है किन्तु वह हार जाती है क्यों कि विपरीत परिस्थितियां इतनी प्रबल है कि उसके जीवन में निराशा व्याप्त हो जाती है।

Tags:
देवसेना का गीत

देवसेना का गीत प्रश्नोत्तर
देवसेना का गीत question answer
देवसेना का गीत सवाल जवाब 
देवसेना का गीत की भाषा किस प्रकार की है
devsena ka geet class 12 hindi question answer
devsena ka geet class 12 hindi summary
devsena ka geet class 12 question answer
devsena ka geet question answer in hindi
devsena ka geet ke question answer
class 12 hindi chapter 1 devsena ka geet vyakhya 

Leave a Comment