Naye Ilake Mein Ncert Solutions for Class 9 Hindi Sparsh Chapter 13 

नए इलाके मे प्रश्न-अभ्यास

1. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए –

नए इलाके मे प्रश्न (क)-  नए बसते इलाके में कवि रास्ता क्यों भूल जाता है?

Hindi Class 9 Sparsh Solutions(उत्तर):- नए बसते इलाके में कवि रास्ता इसलिए भूल जाता है क्योंकि उसके मन में उन इलाकों की पुरानी यादें बसी थीं। अब ये इलाके इतने ज्यादा बदल गए हैं कि किसी पुराने चिन्ह का कोई नामो-निशान भी नहीं है। हर जगह नयी-नयी इमारतें खड़ी हो गयी हैं। कवि को नए बसते इलाकों में कुछ भी जाना-पहचाना नहीं लगता है, जिसकी वजह से वह रास्ता भूल जाता है। अन्य शब्दों में कहें तो तेजी से होते विकास के दौर में कवि अपनी यादों के सहारे आगे बढ़ना चाहता था, जो संभव नहीं था और वो रास्ता भटक जाता था।

नए इलाके मे प्रश्न (ख)- कविता में कौन-कौन से पुराने निशानों का उल्लेख किया गया है?

Hindi Class 9 Sparsh Solutions(उत्तर):- इस कविता में निम्नलिखित पुराने निशानों का उल्लेख है – पुराना पीपल का पेड़, जमीन का एक खाली टुकड़ा, बिना रंग वाला लोहे का गेट और उसका एक मंज़िल का मकान। 

नए इलाके मे प्रश्न (ग)- कवि एक घर पीछे या दो घर आगे क्यों चल देता है?

Hindi Class 9 Sparsh Solutions(उत्तर):- कविता में कवि कहते हैं कि मैं जब भी किसी इलाके में अपने जाने-पहचाने घर को ढूंढता हूँ, तो हमेशा एक-दो घर आगे या पीछे चल देता हूँ क्योंकि मैनें सही पता खोजने के लिए पहले जो निशानियां बनाई थीं, तेजी से होती तरक्की की वजह से अब वो मिट गई हैं। अब तो यहाँ हर दिन यहां कुछ नया और अलग बन हो रहा है। कवि को सबकुछ बदला-बदला लगता है, ऐसे में, उन्हें विश्वास ही नहीं हो पाता है कि वो सही पते पर जा रहे हैं या नहीं। अब अपनी यादों के सहारे हम आगे नहीं बढ़ सकते, हमें बदलते वक़्त के साथ खुद को भी बदलना होगा।

नए इलाके मे प्रश्न (घ)- ‘वसंत का गया पतझड़’ और ‘बैसाख का गया भादों को लौटा’ से क्या अभिप्राय है?

Hindi Class 9 Sparsh Solutions(उत्तर):- ‘वसंत का गया पतझड़’ और ‘बैसाख का गया भादों को लौटा’ से कवि का अभिप्राय है कि उन्हें नए इलाके में आने के बाद ऐसा लगता है कि जैसे वो काफी लम्बे समय के बाद वहाँ लौटे हैं। हालाँकि उन्हें गए ज्यादा समय नहीं बीता है, लेकिन हर दिन होते निर्माण और बदलते माहौल की वजह से कवि को यह भ्रम होता है कि वो इस इलाके में काफी लम्बे समय बाद लौटे हैं।

नए इलाके मे प्रश्न (ङ)- कवि ने इस कविता में ‘समय की कमी’ की ओर क्यों इशारा किया है?

Hindi Class 9 Sparsh Solutions(उत्तर):- इस कविता में कवि ने समय की कमी की तरफ इशारा इसलिए किया है क्योंकि समय बहुत तेजी से बदल रहा है। यह बदलाव इतनी तेजी से हो रहा है कि आज हमारे आस-पास जो मौजूद है, कल उसका रूप कितना बदल जाएगा, यह हम सोच भी नहीं सकते हैं। तीव्र बदलाव के इस दौर में पुरानी यादों को भुलाने और नए माहौल में ढलने के लिए हमारे पास समय बहुत कम है। इसीलिए कवि ने नए इलाके में कविता में समय की कमी की तरफ इशारा किया है।

नए इलाके मे प्रश्न (च)- इस कविता में कवि ने शहरों की किस विडंबना की ओर संकेत किया है?

Hindi Class 9 Sparsh Solutions(उत्तर):- शहर लगातार इतनी ज्यादा तेजी से बदल रहे हैं कि अब वहां कुछ भी स्थाई नहीं रह गया है, कविता में कवि ने इसी विडंबना की ओर संकेत किया है। शहरों का यह बदलाव इतनी तीव्र गति से हो रहा है कि कभी-कभी तो हमें अपने वर्तमान पर भी यकीन नहीं रह पाता है। इसकी वजह से हमें काफी मुश्किल होती है और हमारी स्मृतियाँ भी हमारे काम नहीं आ पाती हैं। हम पर हर पल खुद को बदलाव में ढालने के लिए मजबूर हैं। हमारे पास समय की कमी है, लेकिन बदलाव में ढलना भी ज़रूरी है। ऐसे में, जीवन एक मजबूरी-सी बन गया है।

2. व्याख्या कीजिए –

(क) यहाँ स्मृति का भरोसा नहीं

एक ही दिन में पुरानी पड़ जाती है दुनिया।

Hindi Class 9 Sparsh Solutions(उत्तर):- ये पंक्तियाँ नए इलाके में कविता से ली गयी हैं। इनमें कवि कहना चाहते हैं कि आज समय इतनी तेजी से बदल रहा है कि एक ही दिन में हमारे आसपास का माहौल पूरी तरह से बदल सकता है। ऐसे में, अपनी यादों पर भरोसा करना थोड़ा मुश्किल है। इस तेज बदलाव के दौर में हमारी यादें मात्र एक ही दिन में पुरानी पड़ जाती हैं। हालाँकि परिवर्तन हमारे जीवन का अटल सत्य है, इसलिए हमें परिस्थितियों में ढलना होगा और तेजी से दौड़ते वक़्त के साथ चलना होगा।

(ख) समय बहुत कम है तुम्हारे पास

आ चला पानी ढहा आ रहा अकास

शायद पुकार ले कोई पहचाना ऊपर से देखकर

Hindi Class 9 Sparsh Solutions(उत्तर):- ये पंक्तियाँ नए इलाके में कविता से ली गयी हैं। इनमें कवि ने समय की कमी की तरफ इशारा किया है। सबकुछ इतना ज्यादा बदल चुका है कि वो जिस घर जाना चाहता है, उसे उसका पता नहीं मिल पा रहा है। शाम घिरने लगी है और आसमान से बारिश की कुछ बूँदें भी गिरने लगी हैं। ऐसे में कवि सोचता है कि ये जगह मेरी यादों की तुलना में इतनी ज्यादा बदल चुकी है कि वो जाना-पहचाना घर मिलना तो अब बहुत मुश्किल है। अब बस एक ही उम्मीद बची है, कोई जाना-पहचाना व्यक्ति ऊपर से देखकर मुझे पुकार ले और घर बुला ले।

खुशबू रचते हैं हाथ प्रश्न-अभ्यास

1. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए –

खुशबू रचते हैं हाथ प्रश्न (क)- ‘खुशबू रचने वाले हाथ’ कैसी परिस्थितियों में तथा कहाँ-कहाँ रहते हैं?

Hindi Class 9 Sparsh Solutions(उत्तर):- कवि कहता है कि दूसरों की ज़िंदगियाँ महकाने वाले और लोगों का जीवन सुख-सुविधाओं से भर देने वाले लोग (खुशबू रचने वाले हाथ), बदबूदार, तंग गलियों और नालों के पास गंदगी से भरी जगहों पर रहने को मजबूर हैं। ये जगहें इतनी गंदी होती हैं कि यहां हमारा खड़ा होना भी मुश्किल है। इन जगहों की बदबू के मारे हमारी नाक और सिर फटने लग जाते हैं।

यह बहुत बड़ी विडंबना है कि जो लोग हमारे यहां साफ सफाई रखते हैं, वो खुद बहुत खराब हालातों में रहते हैं। इनके हाथ हमारी तरह कोमल नहीं होते, बल्कि ज्यादा मेहनत और कठिन काम की वजह से कट-फट जाते हैं। हमारे घरों को खुशबू से भर देने वाले लोग बदबू भरी जगहों में अपना जीवन बिता रहे हैं।

खुशबू रचते हैं हाथ प्रश्न (ख)- कविता में कितने तरह के हाथों की चर्चा हुई है?

Hindi Class 9 Sparsh Solutions(उत्तर):- कविता में निम्न प्रकार के हाथों की चर्चा हुई है – उभरी नसों वाले हाथ, पीपल के पत्ते से नए-नए हाथ, गंदे कटे-पिटे हाथ, घिसे नाखूनों वाले हाथ, जूही की डाल से खूशबूदार हाथ,जख्म से फटे हाथ आदि।

खुशबू रचते हैं हाथ प्रश्न (ग)- कवि ने यह क्यों कहा है कि ‘खुशबू रचते हैं हाथ’?

Hindi Class 9 Sparsh Solutions(उत्तर):- कवि ने ऐसा इसलिए कहा है क्योंकि ये लोग खुद भले ही गंदी-बदबूदार जगहों पर गरीबी में जी रहे हों, लेकिन ये हमारे घरों को महकाने और सजाने के साजो-सामान बनाते हैं। अर्थात इन गरीब लोगों के हाथ ही हमारे लिए खुशबू बनाने में लगे रहते हैं। अगरबत्तियां बनाने का काम करने वालों के हाथ में चोट लगने और थके-हारे होने पर भी काम करते रहते हैं, क्योंकि इसी से उनकी रोजीरोटी चलती है।

खुशबू रचते हैं हाथ प्रश्न (घ)- जहाँ अगरबत्तियाँ बनती हैं, वहाँ का माहौल कैसा होता है?

Hindi Class 9 Sparsh Solutions(उत्तर):- जहाँ अगरबत्तियाँ बनती हैं, वहाँ बड़ा ही गंदगी और बदबू होती है। इस गंदगी के बारे में हम कल्पना भी नहीं कर सकते हैं, बस इतना समझ लीजिये कि अगर आप वहाँ थोड़ी देर के लिए भी खड़े रहें, तो बदबू के मारे आपका सिर फटने लगेगा। इस जगह कई लोग अगरबत्तियां बनाते रहते हैं। कुछ बच्चे होते हैं, कुछ जवान, तो कुछ बुजुर्ग लोग भी यह काम कर रहे होते हैं। इनमें से कुछ लोगों के हाथों में ज़ख्म होते हैं, लेकिन फिर भी वो काम करते हैं और हमारे घरों को महकाने वाली अगरबत्तियां बनाते है।

खुशबू रचते हैं हाथ प्रश्न (ङ)- इस कविता को लिखने का मुख्य उद्देश्य क्या है?

Hindi Class 9 Sparsh Solutions(उत्तर):- इस कविता से हमें पता चलता है कि हमारे देश का मजदूर वर्ग कितने मुश्किल हालातों में रहता है। उसका रहन-सहन कितना दुखदाई है। हम बड़े और साफ घरों में रहते हैं, जिसे साफ भी वही लोग रखते हैं। ये गरीब लोग तमाम दुःख सहकर भी हमारी ज़रूरत और शानो-शौकत की वस्तुएं बनाते हैं। कवि इस कविता के जरिए मजदूर वर्ग का दुःख सारे समाज तक पहुँचाना चाहते हैं, ताकि मजदूरों को समाज में सम्मान दिया जाए और उनका शोषण ना किया जाए। हम सभी को देश के गरीब वर्ग की मदद करने का संकल्प लेना चाहिए, ताकि लोगों को अपना घर चलाने के लिए अपनी जान जोखिम में ना डालनी पड़े।

व्याख्या कीजिए –

क.(i)- पीपल के पत्ते-से नए-नए हाथ

जूही की डाल से खुशबूदार हाथ

Hindi Class 9 Sparsh Solutions(उत्तर):- ‘खुशबू रचते हैं हाथ’ कविता की पंक्तियों में कवि कहना चाहते हैं कि कुछ नन्हे बच्चों और जवान बहू-बेटियों को गरीबी के कारण काम करना पड़ता है। काम करते बच्चों के कोमल हाथ कवि को पीपल के नर्म-नए पत्तों जैसे लगते हैं और काम करने वाली बहू-बेटियों के नाजुक और मुलायम हाथ कवि को जूही की डाली की तरह महकते हुए लगते हैं।

क.(ii)- दुनिया की सारी गंदगी के बीच

दुनिया की सारी खुशबू

रचते रहते हैं हाथ

Hindi Class 9 Sparsh Solutions(उत्तर):- ऊपर दी गयी पंक्तियाँ ‘खुशबू रचते हैं हाथ’ कविता का अंश हैं। इन पंक्तियों में कवि कहना चाहते हैं कि दूसरों के घर में सुगंध यानि खुशबू फ़ैलाने के लिए अगरबत्तियां बनाने वाले लोग, बेहद गंदगी में रहकर काम करने को मजबूर हैं। उनके घरों के आसपास भी बहुत गंदगी और बदबू रहती हैं। उन्हें अपने परिवार का पेट भरने के लिए तमाम परेशानियों को झेलकर, ख़राब हालातों में भी काम करना पड़ता है। उनके हाथों में घाव हो जाते हैं, तब भी वो लोग मेहनत करके हमारे लिए अगरबत्तियां बनाते हैं, ताकि उनका परिवार पल सके।